Add Your Blog | | Signup
क्रांति स्वर · 1d ago

'कायस्थ' चारों वर्णों से ऊपर होता था : अब पतन की पराकाष्ठा पर है ------ विजय राजबली माथुर

  प्रतिवर्ष विभिन्न कायस्थ समाजों की ओर से देश भर मे भाई-दोज के अवसर पर कायस्थों के उत्पत्तिकारक के रूप मे 'चित्रगुप्त जयंती'मनाई जाती है ।  'कायस्थ बंधु' बड़े गर्व से पुरोहितवादी/ब्राह्मणवा...
क्रांति स्वर · 2W ago

हिन्दुत्व की राजनीति का गलत मुक़ाबला और ज़िद्द पर अड़ कर पाखंडियों के लिए खुला मैदान छोडना ------ विजय राजबली माथुर

हिन्दुत्व की राजनीति को समझते हुये उसका पर्दाफाश करना चाहिए और तर्क के आधार पर उसे अनैतिक व अधार्मिक सिद्ध करना चाहिए न कि, राहुल गांधी,अखिलेश यादव और ममता बनर्जी की भांति उसमें उलझ कर फंसना...
क्रांति स्वर · 3W ago

नए बाज़ार ने कला सिनेमा की संभावना सीमित की ------ सुनील मिश्र / कला में कंप्रोमाईज़ का नया चलन ------ रेखा खान

  ~विजय राजबली माथुर ©
क्रांति स्वर · 4W ago

रानी तलाशकुंवरी भी झांसी की रानी से कम नहीं ------ कृष्ण प्रताप सिंह

  1857 की क्रांति में जो भूमिका रानी लक्ष्मीबाई की रही वैसी ही अमोढ़ा ( बस्ती ) की रानी तलाशकुंवरी की भी रही उन्होने भी आत्म - समर्पण नहीं किया था  : ~विजय राजबली माथुर ©
क्रांति स्वर · 4W ago

' हम पंछी एक डाल के ( 1957 ) ' : आज के हालात में युवा पीढ़ी के लिए पूरी तरह प्रेरणादाई ------ विजय राजबली माथुर

  पूजा के दो फूल चढ़ा कर कहता है इंसान कि, मुझको मिल जाये भगवान। .... भगवान बसे भैया खेतों में, भगवान बसे भैया खलिहानों में, वह तो बसे भैया बांधों में, खानों में, भैया वह तो बसे  कल- कारखानो...
क्रांति स्वर · 1M ago

बांग्लादेश की आज़ादी का दिन मुबारक हो ------ विजय राजबली माथुर

  16 दिसंबर 1971 को बांग्लादेश एक अलग मुल्क के रूप में आज़ाद हुआ था एक लंबे संघर्ष और कुर्बानी के बाद जिसमें भारत का भी सहयोग था॰ रूडकी रोड क़े क्वार्टर में रहते हुए P .O .W .का जो नज़ारा देख...
क्रांति स्वर · 1M ago

विज्ञान किसी भी विषय के नियम बद्ध एवं क्रम बद्ध अध्ययन को कहा जाता है ------ विजय राजबली माथुर

अक्सर यह चर्चा सुनने को मिलती है की ज्योतिष का सम्बन्ध मात्र धर्म और आध्यात्म से है.यह विज्ञान सम्मत नहीं है और यह मनुष्य को भाग्य के भरोसे जीने को मजबूर कर के अकर्मण्य बना देता है.परन्तु ऐस...
क्रांति स्वर · 1M ago

गुजरात चुनाव में मोदी को हराने की भगवा अपील क्यों ? ------ विजय राजबली माथुर

क्रांति स्वर · 1M ago

परंपरागत गुजराती मतदाता भाजपा के विरोध की ओर क्यों ? ------ विजय राजबली माथुर

क्रांति स्वर · 1M ago

अपने ही हथियार से हुआ अंग्रेज़ सेनापति का संहार ------ कृष्ण प्रताप सिंह

  ~विजय राजबली माथुर ©