Add Your Blog | | Signup
क्रांति स्वर · 4d ago

क्या पैसा कमाना ही सब कुछ है? ------ केशव

 *****Thu, Jul 20, 2017 at 8:21 PM
क्रांति स्वर · 1W ago

यह बदले की राजनैतिक करवाई है ------ डॉ सुजाता चौधरी / नीतीश के विकल्प ------ नवेंदु कुमार

  साभार : https://www.facebook.com/sujata.choudhary.750/posts/1096147460487204
क्रांति स्वर · 3W ago

एक देश-एक टैक्स! तो फिर सबके लिए एक समान पढ़ाई और दवाई की व्यवस्था क्यों नहीं? यह कैसा राष्ट्रवाद? ------ प्रो. दिवाकर

Uma Raag 03-07-2017GST पर पढ़िए वरिष्ठ अर्थशास्त्री प्रो. दिवाकर (ए.एन.एस. समाज अध्ययन संस्थान, पटना) एक देश-एक टैक्स! तो फिर सबके लिए एक समान पढ़ाई और दवाई की व्यवस्था क्यों नहीं? यह कैसा रा...
क्रांति स्वर · 3W ago

बेबसी (कहानी) ------ अनिता गौतम

Anita Gautam ०१-०७-२०१७ बेबसी (कहानी) अनिता गौतम.“मुबारक हो जय बाबू! नयी जिन्दगी बहुत बहुत मुबारक हो।”आत्मविश्वास से भरे डॉक्टर अनिल के ये शब्द जय बाबू के कानों में पड़े तब उन्हें अपने जीवित...
क्रांति स्वर · 4W ago

ग़दर के गद्दारों की कारस्तानियाँ ------ के पी सिंह

  ~विजय राजबली माथुर ©
क्रांति स्वर · 1M ago

बिन अन्नदाता के क्या खाएंगे-पिएंगे न्यू इंडिया के न्यू नागरिक?............ नवेन्दु कुमार

  Navendu Kumar 15-06-201740 हज़ार करोड़ बनाम 5 लाख करोड़ !बैंकों को कंगाल करने वाले बड़े फर्म मालिकों यानि बड़े पूँजीखोरों की फ़ाइल तो निकाली जा रही पर ऋण माफ़ी भी दी जा रही। जबकि भारतीय बैंकों का...
क्रांति स्वर · 1M ago

''तलाक क्या जीत का प्रतीक होता है????'' ------ नारी सम्मान

नारी सम्मान14-06-2017  at 2:00pm (((#एक_अनोखा__तलाक#))))......================हुआ यों कि पति ने पत्नी को किसी बात पर तीन थप्पड़ जड़ दिए, पत्नी ने इसके जवाब में अपना सैंडिल पति की तरफ़ फेंका,...
क्रांति स्वर · 1M ago

1857 का अंतिम युद्ध जीत कर भी हार गया होपग्रांट ------ के पी सिंह

क्रांतिकारी बलभद्र के शहीदी दिवस पर :साभार : नवभारत टाईम्स ,  लखनऊ, 01-06-2017,  पृष्ठ --- 12   ~विजय राजबली माथुर © फेसबुक कमेंट्स : 
क्रांति स्वर · 1M ago

ब्लाग लेखन के सात वर्ष ------ विजय राजबली माथुर

  सात वर्ष पूर्व आज ही के दिन इस 'क्रांतिस्वर ' ब्लाग को प्रारम्भ किया था। 1973 में पहली बार आगरा और मेरठ के स्थानीय अखबारों में मेरे लेख प्रकाशित हुये थे तब से जब तब अखबारों में लेख छपते रह...
क्रांति स्वर · 2M ago

जब तक कारपोरेट के द्वारा सरकारों का नियंत्रण होता रहेगा ------ विजय राजबली माथुर

  स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर नौकरी से हटाये जाने के संदेह  के आधार पर आत्मह...