Add Your Blog | | Signup

PAAGAL-KHAANAA हमें पता है आप अंदर से क्या हैं।

Hindi - Fun, Philosophy, Satire
http://www.paagal-khaanaa.blogspot.com/
PAAGAL-KHAANAA · 3d ago

सिद्धू को देखता हूं

व्यंग्यमैं सिद्धू को देखता हूं।पता नहीं वे कॉमेडी शो की वजह से ऐसे हैं या कॉमेडी शो उनकी वजह से ऐसे हो गए हैं!आजकल कॉमेडी शो में लोग हंसने के बजाय तालियां बजाने लगे हैं। हो सकता है हंसीं की ...
PAAGAL-KHAANAA · 5d ago

अफ़वाह की डगर पे...

पैरोडीअफ़वाह की डगर पे चमचों चलो उछलकेइंजन कोई भी आए, डब्बे तुम्ही हो कल केअपने हों या पराए, किसको नज़र है आएये ज़िंदगी है अभिनय, करना भी क्या है न्यायरस्ते लगेंगे भारी, तुम हो ही इतने हलकेअफ़वा...
PAAGAL-KHAANAA · 1M ago

अकेला बनाम निराकार

उनके पास समाज है।उनके पास परिवार है। उनके पास धर्म है।उनके पास धर्मनिरपेक्षता है।उनके पास राजनीति है।उनके पास राजनीतिक पार्टियां हैं।उनके पास वाम है।उनके पास संघ है।उनके पास कवि हैं।उनके पास...
PAAGAL-KHAANAA · 4M ago

लाशलीला

‘मैं नहीं लूंगा’, एक ने कहा।दूसरों ने शुक्र मनाते हुए ठंडी सांस ली-‘हमपर है ही कहां जो देंगे’इसके साथ ही सब मिलजुलकर खीखी करते हुए मुर्दाघर में दफ़न हो गए।-संजय ग्रोवर
PAAGAL-KHAANAA · 4M ago

नालायक

सभी नालायक एक-दूसरे को बहुत लाइक/पसंद करते हैं।एक जैसे जो होते हैं।वैसे वे किसी काम के हो न हों पर एक-दूसरे के बहुत काम आते हैं।मिलजुलकर भी अकेले सच से वे डरते हैं।अंततः एक दिन वे ख़ुदको श्र...
PAAGAL-KHAANAA · 5M ago

बेईमानी

लघुकथावह हमारे घरों, दुकानों, दिलों और दिमाग़ों में छुपी बैठी थी और हम उसे जंतर-मंतर और रामलीला ग्राउंड में ढूंढ रहे थे।-संजय ग्रोवर05-02-2017
PAAGAL-KHAANAA · 6M ago

भीड़ की ताक़त

सवा अरब लोग अगर एक हो जाएं तो क्या नहीं कर सकते ?और कुछ नही तो मिलजुलकर चुप तो रह ही सकते हैं।-संजय ग्रोवर14-01-2017
PAAGAL-KHAANAA · 6M ago

वही ढाक के तीन पात......

PAAGAL-KHAANAA · 7M ago

नाक़ाबिले-बर्दाश्त

लघुव्यंग्यअपने यहां लोग अकसर अपने बारे में कुछ बातें बहुत अच्छे से जानते हैं। जैसे मैं देखता हूं कि कई लोग दूसरों से तो कहते ही हैं-‘बिज़ी रहो-बिज़ी रहो’, ख़ुद भी अकसर बिज़ी रहने की कोशिश करते ...
PAAGAL-KHAANAA · 9M ago

अति-आंदोलित

उपन्यासांशमेजर के ओंठ गोल हो गए।केस बहुत उलझा हुआ था। वह एक-एक तस्वीर ध्यान से देख रहा था।विरोधी ऐसे खड़े थे जैसे होली मिलने आए हों। कई तो वीडियो में भी मुस्करा रहे थे। खाने-पीने का विरोध कोई...