Add Your Blog | | Signup
GUZARISH · 1W ago

रक्षाबंधन ( दोहे)

राखी कह या श्रावणी, पावन यह त्योहार।कच्चे धागों से बँधा ,भाई बहन का प्यार।।थाली लेकर शगुन की,बहन सजाये भोर।रोली से टीका किया, बाँधी रेशम डोर।।रेशम की ये डोरियाँ , कच्चे धागे चार।सच्चा रिश्ता...
GUZARISH · 1M ago

गुरु पूर्णिमा (दोहे)

गुरु पूर्णिमा 9 जुलाई, 2017शुक्ल पक्ष आषाढ़ का,गुरु पूजा दिन खास।लाई है गुरु पूर्णिमा,श्रद्धा और विश्वास।।देकर गुरु को दक्षिणा,सदा निभाओ प्रीत।जीवन के गुर जान कर, बनना सच्चे मीत।।नमन करो हर र...
GUZARISH · 1M ago

बेटी,बेटा, बहू (दोहावली)

किया बुढ़ापे के लिये, सुत लाठी तैयार।बहू उसे लेकर गई, बूढ़े ताकें द्वार।।बहू किसी की है सुता, भूले क्यों संसार।गेह पराये आ गई ,करो उसे स्वीकार।।किया बुढ़ापे के लिये, बेटा सदा निवेश।पर धन बेटी स...
GUZARISH · 2M ago

योग दिवस

उठना जल्दी जागना ,रहना अगर निरोग।करते रहना रोज ही ,योग योग तुम योग।।भारत ने जो दे दिया ,सकल विश्व को योग।अब पीछे चलने लगे, दुनिया भर के लोग।।सुबह शाम करते अगर, नित्य लग्न से योग।रहते हैं तब ...
GUZARISH · 2M ago

"डोली"

डोली तो उठी थीदो सुहागनों कीचार चार कंधों परफूलों से लदीलाल जोड़े में सजीसोलह श्रृंगार किये..लेकिनएक विदा हो रही थीएक अलविदा हो रही थी...सरिता यश भाटिया...
GUZARISH · 5M ago

चुनावी होली दोहे

सरिता मेरा नाम है ,बढ़ती हूँ निष्काम।मोदी की जय बोल दो , बोलो जय श्री राम।।जो गी रा सा रा रालाया है होली मिलन, खुशियाँ आज विशेषअभिनन्दन है भाजपा, शुभकामना अशेष।।जो गी रा सा रा राख़ुशी हुई है द...
GUZARISH · 8M ago

मेरी हार या मेरी जीत

याद है मुझे वो लम्हा जब वो बढ़ चला था जिंदगी की पगडंडियों पर पाने को अपना अंतिम लक्ष्य मैं देख रही थी सुनहरे सपनेउसके साथ जीने के मकसद तो एक ही था जीवन से मृत्यु का मिलन लेकिन
GUZARISH · 10M ago

अभिषेक के जन्मदिवस पर

जन्मदिवस शुभकामना, देता है परिवार।चाचा, दादा ,माँ ,भुआ ,सभी लुटायें प्यार।।आई है शुभ अष्टमी ,और जन्मदिन आज ।रहे सदा ही आपका,हर पल शुभ आगाज|| सुनो हमारे लाड़ले ,सुनना देकर ध्यान।जो करता सबका भ...
GUZARISH · 11M ago

मैं यहाँ तू वहाँ [ गजल ]

यह वक्त.. ये दिन ... ये रात.... गुजर तो रहे हैं लेकिन गुजारे नहीं जाते ........ तुम्हारे बिन...मैं यहाँ तू वहाँ, फासले दरमियाँआती जाती पवन ,कह रही दास्ताँ |गुजरती ही नहीं, तेरे बिन जिंदगी इस...
GUZARISH · 12M ago

राखी [कुण्डलिया]

कहती बहना वीर से , ह्रदय रखो ना खोट जल्दी लगवाओ तिलक, और दिखाओ नोट |और दिखाओ नोट, फ़ोन है लेना भैया व्हाट्सएप्प उसमें चले ,पार लगे तभी नैया चैट करें सब दोस्त , देखती उनको रहती भैया सुनो गुहार...